भाषा
क्लिक्स
40
hi.news

तीन कजाखस्तान के बिशप ने पोप फ्रांसिस का सामना किया

तीन कजाखस्तान के बिशप्स ने लिखा कि पोप फ्रांसिस द्वारा ब्यूनस आयर्स बिशप के पोस्तरल मानदंडों के अनुमोदन विश्वासयोग्यों और पादरियों के बीच एक भ्रम का कारण बना है
वे अस्ताना के आर्कबिशप टोमास पेटा, कारागंडा के आर्कबिशप जन पावेल लेंगा और अस्ताना के सहायक बिशप अथानासस स्नेदर हैं। उनका बयान दिसंबर 31, 2017 का है।
यह चर्च के जीवन में "तलाक का संकट" फैलाने वाले साधन के रूप में पोस्तरल मानदंडों को देखता है। दूसरे संबंध को वैध बनाना "दो हज़ार साल पुराने चर्च के पवित्र संस्कार के अनुशासन और सिद्धांत के एक महत्वपूर्ण बदलाव को दर्शाता है”।
बिशप ने हाल के पॉप तक चर्च के फादर के माध्यम से बताया वे सर्वसम्मत रूप से मानते हैं कि दूसरा संबंध कभी भी वैध नहीं होता है।
वे निष्कर्ष निकालते हैं, "यह प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से तलाकशुदा और गैर-वैवाहिक यौन संबंध को तथाकथित 'तलाकशुदा और पुनर्विवाहित' को पवित्र कम्युनियन प्रदान करके औचित्यपूर्ण,अनुमोदित, या वैधता बनाना उचित नहीं है इस स्थिति में अनुशासन कैथोलिक और अपोस्टोलिक आस्था की संपूर्ण परंपरा के खिलाफ है। "

चित्र: Tomash Peta, Jan Pawel Lenga, Athanasius Schneider, © wikicommons, CC BY-SA, #newsAamidgljnm