Clicks28
hi.news

युवाओं की धर्मसभा में तीन बातें हैं जो मैं कहना चाहूंगा - मेस्ट्रो ऑरेलियो पोर्फिरी द्वारा

बहुत से लोग इसे नहीं जानते हैं, लेकिन अतीत में, मैंने कई वैटिकन धर्मसभाओं में भाग लिया है।

नहीं, मैं कभी एक धर्मसभा का फादर नहीं था लेकिन मैं वह अरगनिस्ट था जो होरा टर्टिया के दौरान धर्मसभा के फादर के साथ रहता था। मुझे उन बैठकों में हस्तक्षेप करने का अवसर कभी नहीं मिला और, जो कुछ वर्षों से मैं लिख रहा हूं वह देने का मौका नही मिला, मुझे लगता है कि भविष्य में ऐसा करने के लिए मुझे आमंत्रित नहीं किया जाएगा।

अब जब मैं मध्यम आयु का होने जा रहा हूं, तो मेरे पास अगली युवा धर्मसभा के बारे में कहने के लिए कुछ है, वास्तव में, कम से कम तीन चीजें हैं। चूंकि मैं धर्मसभा के दौरान खुद को व्यक्त नहीं कर सकता, मैं इसे यहाँ कहूँगा।

1) युवाओं, अपने युवा जीवन को निरंकुश मत बनाओ। यह एक मार्ग है, वयस्कता की ओर परिपक्वता का समय है। जो लोग अपने आप में युवाओं की प्रशंसा करते हैं वे या तो क्रूर हैं या बुजुर्ग हैं। यही कारण है कि मैं "युवा जनसमूह" को खड़ा नहीं कर सकता हूं। जनसमूह केवल ईश्वर के लोगों के एक वर्ग के लिए नही है बल्कि सभी के लिए है।

2) युवा, याद रखें कि पोप आपको अपने इतिहास का नायक बनने के लिए कहते हैं। जो भी प्रमुख कथाएं हैं भले ही वह हमारे पवित्र मदर चर्च में मौजूद कुछ कथाएं ही क्यों न हों उन्हें निष्क्रिय रूप से स्वीकार न करें। चर्च से दुनिया को चुनौती देने के लिए कहें, यदि आवश्यक हो तो प्रश्न पूछने के लिए कहें, दुनिया के घातक पाप में खुद को शामिल न होने के लिए कहें।

3) युवा, परंपरा का अनुभव करें। मैं "परंपरावाद" नहीं कहता बल्कि परंपरा, कला, सौंदर्य, आध्यात्मिकता, प्रार्थना और संस्कृति का खजाना जो हमारे पूर्वजों ने हमें सौंपा है। याद रखें, जो परंपरा को गले लगाते हैं, वे आगे बढ़ते हैं। मैं देखता हूं कि मेरा पृथ्वी पर जीवन हर दिन छोटा कैसे होता है। आप मेरी आशा हैं, आप वे लोग हैं जो भी आपने या मेने पाया है उसे आगे बढ़ाते हैं।

चित्र: © Mazur/catholicnews.org.uk, CC BY-NC-SA, #newsXqepddornb