Clicks14
hi.news

मोसबैक, फ्रांसिस ने चर्च को इस रूप में बदल दिया है जिसे पहचाना नही जा सकता है

Die-Tagespost.de ने 30 अक्टूबर को रिपोर्ट की थी कि रोमन राईट के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्ञात समर्थक जर्मन उपन्यासकार मार्टिन मोसबैक ने जर्मनी के हनोवर में एक पैनल चर्चा के दौरान कहा कि उन्हें पोप फ्रांसिस के विचारों में कोई "स्थिरता" नहीं दिखती है।

मोसबैक के मुताबिक, फ्रांसिस अंत तक चीजों को नहीं सोचते हैं बल्कि पहले एक "बड़ा भूचाल" पैदा कर देते हैं और फिर देखते हैं कि आगे क्या होता है,

"यदि फ्रांसिस कुछ और सालों तक इस नीति के साथ जारी रहते हैं, तो हम चीजों को पहचान नहीं पाएंगे।"

चित्र: Martin Mosebach, © Henning Schlottmann, CC BY-SA, #newsDklbagnwcm